बवासीर (पाइल्स) के मस्से का घरेलू उपचार

बवासीर (पाइल्स) को तुरंत ठीक करते हैं ये पांच उपचार

बहुत सारी बीमारियों में से एक है बवासीर की समस्या। इस बीमारी से अक्सर कई लोग परेशान रहते हैं। और शर्म आने की वजह से किसी से इस बारे में बताते भी नहीं है। आपको बता दें की बवासीर एक दर्दनाक व असहनीय रोग है। क्योंकि इस बीमारी से मलाशय में कई तरह की समस्याएं पैदा हो जाती हैं। खासकर की नसों में सूजन आदि का होना। समय पर बवासीर का उपचार ना होने पर यह इंसान की जान तक ले सकती है।

कितने प्रकार की होती है बवासीर- types of piles disease in Hindi

आपको बता दें की बवासीर दो प्रकाार की होती है।

  • पहली बाहरी बवासीर
  • दूसरी अंदरूनी बवासीर

बाहरी बवासीर में गुदा के बाहर में सूजन की समस्या बनी रहती है तो अंदरूनी बवासीर में सूजन नसों पर महसूस की जाती है।
दोनों प्रकार के इन रोगों में इंसान का जीना बहुत दर्दनाक हो जाता है। क्योंकि इस समस्या से इंसान को शौच व खाना खाने में बहुत
दिक्कत होने लगती है। लेकिन बवासीर को आप घरेलू उपचार से आसानी से ठीक कर सकते हो।

घरेलू उपचार बवासीर (पाइल्स) से बचने के – Piles treatment in Hindi-  bawasir ke masse ka gharelu upchar in hindi

milk doodh ke chamatkari fayde

दही या छाछ का प्रयोग

जिन लोगों को बवासीर हो गई हो वे चिंता ना करें। बस नियमित अपने खान पान में छाछ या फिर दही का प्रयोग करें। ध्यान रहे दही पतली हो। इसके अलावा आप इसमें जीरा और काला नमक का चूर्ण मिलाकर भी पी सकते हो। इससे इस रोग में राहत मिलती है।

अदरक का चूर्ण यानि सोंठ

बहुत ही फायदेमंद होता है सोंठ बवसीर रोग में। यदि आप छाछ में सोंठ के चूर्ण व सेंधा नमक के अलावा पिसा जिरा व हींग को मिलाकर पीते हो तो इससे बवासीर के मस्से जल्दी ठीक हो सकते हैं। ये एक कारगर घरेलू उपचार है।

shikakai-powder-and-amla-will-grow-long-and-strong-hair-in-hindi2

सेवन करें इस चूर्ण का

आयुर्वेद में हरड़ को कई बीमारियों के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है। एैसे में यदि आप दो से पांच ग्राम की मात्रा में छोटी वाली हरड़ का प्रयोग नियमित करते हो तो इससे आप बवासीर से कुछ दिनों में ठीक हो सकते हो।
इसके अलावा आप अरण्डी के तेल को बवासीर वाली जगह पर भी लगा सकते हो इससे आपको इस रोग में काफी लाभ मिलता है।

chandan-powder-in-hindi

प्रयोग करें इन्द्रफला जड़ को

आपको किसी भी आयुर्वेदक दुकान या पनसारी की दुकान में आपको इन्द्रफला की जड़ मिल जाएगी। इसे आप पानी के साथ घिसें और फिर इसे बवासीर पर लगाएं। इससे दर्द में राहत मिलती है।

नीम का तेल का प्रयोग

सेहत के लिए नीम का तेल लाभकारी होता है। एैसे में यदि आप पांच बंूद नीम के तेल को बवासीर के मस्सों पर लगाते हो वो भी नियमित तो इससे आपको इस बीमारी में काफी लाभ मिलेगा।

 



Loading...
डिसक्लेमर : AyurvedicSehat.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी AyurvedicSehat.com की नहीं है। AyurvedicSehat.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।

Leave a Reply