टाइफाइड : लक्षण, घरेलू उपचार और परहेज

टाइफाइड बुखार के लक्षण और घरेलू उपचार

खराब खान पान या संक्रमित भोजन खाने या फिर गंदा पानी पीने से टाइफाइड का बुखार हो जाता है। आपको बता दें की साल्मोनेला नाम के बैक्टीरिया के संक्रमण से ये बुखार आता है। इसे मियादी बुखार के नाम से भी जाना जाता है। ये बुखार जानलेवा भी हो सकता है यदि आप इसका उपचार सही समय पर नहीं करोगे। जब टाइफाइड बढ़ जाता है तब आंता से खून का रिसना तेज हो जाता है और इसकी वजह से इंसान को खतरा बढ़ सकता है। इस लेख में हम आपको बता रहे हैं टाइफाइड से बचने के आसान घरेलू नुस्खे।

टाइफाइड बुखार से निजात पाने के घरेलू उपचार

टाइफाइड के मुख्य लक्षण – symptoms of typhoid fever

  • उल्टी का होना
  • टेंशन होना
  • पेट में दर्द बने रहना
  • तेजी से सिर दर्द होना
  • शरीर में बार—बार सुस्ती का आना
  • बच्चों में दस्त की समस्या होना
  • कमजोरी का आना शरीर में
  • कब्ज व पेचिश लगना
  • अचानक से बुखार का आ जाना
  • अधिक ठंडा और पसीना भी अधिक आना।

टाइफाइड के घरेलू उपचार-home remedies of typhoid fever in Hindi

काली मिर्च के साथ तुलसी

चार तुलसी के पत्तों को चार दाने काली मिर्च के साथ मिलाकर पीस लें। और फिर इसका पेस्ट बना लें। और इसे पानी के साथ मिलाकर रोगी को पिलाएं। इससे ये रोग आसानी से ठीक हो जाता है।

grapes for baby teeth

गाजर का सेवन

टाइफाइड होने पर मरीज को गाजर का जूस अधिक पिलाना चाहिए। य​ा गाजर को सलाद के रूप में भी खिलाएं।

लहसुन के चमत्कारिक औषधीय फायदे

लहुसन का प्रयोग

टाइफाइड को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है लहसुन के प्रयोग से। तीन से चाल कलियां लहसुन की भूनकर रोगी को खिलाएं।

सूरजमुखी का प्रयोग

सूरजमुखी का फूल आप सभी को पता होगा। जी हां यदि आप तुलसी के पत्तों के रस में सूरजमुखी के पत्तों के रस को लिाकर इसका सेवन करते हैं तो इस बुखार में राहत मिलती है। सुबह खाली पेट इसका सेवन किया करें।

ginger adrak se door hoga pet dard

अदरक

प्राकृतिक गुणों से भरपूर अदरक मियादी बुखार में बहुत ही अधिक फायदेमंद होता है। यदि नियमित सुबह और शाम के समय में अदरक का रस और शहद को मिलाकर पीते हैं तो इससे आसानी से आप टाइफाइड से निजात पाया जा सकता है।

लस्सी के फायदे शरीर में नमी बनाए रखने के लिए

छाछ का प्रयोग

आप यदि छाछ का प्रयोग करते हो तो इससे भी इस खतरनाक बीमारी का उपचार किया जा सकता है। छाछ का सेवन आप सुबह शाम जरूर करें। जीरे वाली छाछ बहुत फायदेमंद होती है आपकी सेहत के लिए।

basil leaf during-pregnancy in hindi

तुलसी का कुदरती उपचार

दोस्तों तुलसी में भरपूर मात्रा में कुदरती गुण पाए जाते हैं। यदि आप तुलसी से बनी चाय को पीते हैं तो इससे टाइफाइड का बुखार जल्दी से ठीक हो जाएगा। साथ ही रोगी को इससे आराम भी मिलता है। तुलसी बहुत अधिक लाभकारी है इस रोग से बचाव में।

आम का पन्ना

आप को शायद ही पता हो की आम पन्ना भी टाइफाइड का उपचार कर सकता है। जी हां यदि आप रोज कम से कम दो बा आम पन्ने का सेवन करते हो तो कुछ ही दिनों में मियादी बुखार खत्म हो जाएगा।

namak ka pani or salt water for eye flu in hindi.jpg

पानी

आप जितना हो पानी को अधिक से अधिक पीएं। पानी को गरम करके फिर उसे ठंडा करके ही पीएं। क्योंकि ये बुखार गंदा पानी पीने से होता है। इसलिए आप साफ पानी पीएं।

sleeping-with-lights-at night effects breast cancer

आराम जरूर करें

टाइफज्ञइड के रोगी को चाहिए की उसे अधिक से अधिक आराम करना है। ताकि उसके शरीर से ये रोग आसानी से हट सके।

करें पुदीना का प्रयोग

पुदीना में कई एैसे गुण होते हैं जो टाइफाइड के बुखार को खत्म कर देते हैं। अदरक और पुदीने को मिलाकर पेस्ट बनाएं और फिर इसका सेवन रोगी को दिन में कम से कम दो बार जरूर करवाएं।

परहेज जरूर करें टाइफाइड में –  typhoid bukhar mei parhej

दोस्तों इस रोग में परहेज भी एक बेहतरीन उपचार हो सकता है।

  • हाथों को हमेशा साफ व धोकर ही भोजन को करें।
  • साग या सब्जी को खाने से पहले उसे भी अच्छी तरह से साफ करें।
  • पानी हमेशा साफ पीएं।
  • ताजा खाना ही खाएं।
  • तेल युक्त चीजों का सेवन ना करें।
  • फाइबर वाला भोजन ज्यादा ना खाएं।

​यदि आप इन आसान से घरेलू उपचार करते हैं तो कुछ ही दिनों में आपको टाइफाइड से छुटकारा मिल जाएगा। यदि आपको ये जानकारी पंसद आए तो जरूर अपने परिवार के लोगों को भी इस जानकारी को शेयर करें।

Read more :

एल्यूमिनियम फॉयल के नुकसान हमारे स्वास्थ्य के लिए

रातों रात त्वचा के काले निशान हट जाएंगे इस उपचार से

पत्थरचट्टा पौधे के फायदे और नुकसान, पथरी की समस्या में

बेलपत्र के फायदे और औषधीय गुण सेहत के लिए



Loading...
डिसक्लेमर : AyurvedicSehat.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी AyurvedicSehat.com की नहीं है। AyurvedicSehat.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।