नागालैंड के बारे में जानें रोचक बातें—नागलैंड की विशेषताएं

हम आपको भारत के एक एैसे राज्य के बारे में बताने जा रहे हैं जो अपने आप में जितना सुंदर है उतना ही खतरनाक भी। जी हां। यह अपने आप में एक एैसा राज्य कहा जाता है जहां लोग अलग अलग बोलियों व भाषाओं में बात करते हैं। यही नहीं यहां के लोग भोजन में कुत्ते का मांस भी खाते हैं। तो चलिए जानते हैं और क्या—क्या रहस्य छिपे हुए हैं इस राज्य में।

 

नागालैंड के बारे में जानें रोचक बातें—नागलैंड की विशेषताएं-(Interesting facts about nagaland in hindi)

ये उत्तर पूर्व का राज्य छोटी बड़ी पहाड़ियों से घिरा हुआ है। जहां हरियाली ही हरियाली है। नागालैंड को यू कहें की यह भारत का सबसे आखरी गांव है तो गलत नहीं होगा। इस राज्य की कुल जनसंख्या बीस लाख से भी कम है।
धर्म की बात की जाए तो यह राज्य पूरी तरह से ईसाई धर्म को मानता है। जैसा की आपको हमने बताया कि यह राज्य पूरी तरह से जंगलों और पहाड़ियों से घिरा हुआ है।

नागालैंड में आज भी आदिवासी लोग रहते हैं जो अलग अलग तरह की बोलियों में बात करते हैं यही वजह है इस राज्य में कोई एक भाषा नहीं बोली जाती है। यहां मौजूद
कबीलों के अपने अलग रीति रिवाज हैं जो बेहद आकर्षक ​लगते हैं। यहां का पहनावा भी अलग है। जी हां रंग बिरंगी चादर को कपड़े की तरह यहां के लोग पहनते हैं अधिकतर आदिवासी अपने पैरों में कड़े पहनते हैं जिसकी वजह है आसानी से पेड़ पर चढ़ना।

आपको ये जानकार हैरानी होगी कि नागालैंड के नागा लोग कुत्तों को मार कर इसलिए खाते हैं क्योंकि ये उनकी संस्कृति का अहम हिस्सा है। जिसे वे कभी छोड़ नहीं सकते हैं। नागालैंड में आपको कुत्ता सड़कों पर घुमता हुआ नहीं दिखाई देगा। लेकिन वहां पर कई लोग एैसे भी हैं जो शाकाहारी खाना खाना पंसद करते हैं।

 

सपने में भविष्य को देखना इन लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।
अब आपको बताते हैं यह राज्य खतरनाक क्यों माना जाता है। एैसा इसलिए की यहां आज भी कबीला व आदिवासी लोग बसते हैं जो शहरी इंसान के लिए काफी घातक होते हैं। इसलिए यहां कई इलाके एैसे हैं जहां हम और आप नहीं जा सकते हैं।

शिक्षा की बात करें तो इस राज्य में शिक्षितों की संख्या 88 प्रतिशत है। यहां के बच्चे पढ़ाई में उव्वल होते हैं। ​भारत के अन्य कई राज्यों से काफी अधिक है यह स्तर।

यहां की अर्थव्यवस्था कृषी पर आधारित है। और साथ ही हैंडलूम के व्यवसाय आदि से भी यहां के लोग अपना जीवन चलाते हैं। इस तरह से ये राज्य एक एैसा राज्य जो अपने आप में कई विशेषताओं को समेटे हुए है। आप भी जरूर इस राज्य में जाएं और जीवन का आनंद उठाएं।



डिसक्लेमर : AyurvedicSehat.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी AyurvedicSehat.com की नहीं है। AyurvedicSehat.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।

Leave a Reply