प्राचीन मिस्त्र की रहस्यमयी बातें जो हैरान करती हैं

प्राचीन मिस्र की रहस्यमयी बातें जो हैरान करती हैं

प्राचीन भारत की तरह की ग्रीस (मिस्र) की सभ्यता भी अति प्राचीन है। इस देश के बारे में कई एैसे तथ्य हैं जिन्हें बहुत ही कम लोग जानते हैं। ये देश नील नदी के किनारे पर बसा हुआ वो देश है जो अति विकसित सभ्यताओं में से एक रहा है। आपको जानकर हैरानी होगी की ये देश रेगिस्तान से घिरा होने पर भी यहां पर उंटों की बजाय गधों का प्रयोग सामान ढ़ोने के लिए किया जाता था।

मिश्र की महिलाओं और पुरूषों के बारे में भी आपको जानकर हैरानी होगी कि इस देश की महिलाएं जितना ध्यान अपने साजोसज्जा पर देती थी उतनी ही ध्यान पुरूष भी अपने साजोसज्जा पर दिया करते थे। जिसके पीछे कारण होता था की एैसा करने से उनके देवता खुश रहते हैं। और बुरी आत्माओं से उनकी रक्षा भी करते हैं। मेकअप में यहां के लोग मेंहदी और लाल रंग का प्रयोग किया करते थे।

मिस्र का प्राचीन इतिहास-history of egypt in hindi 

interesting-facts-about-ancient-egypt

क्यों रखते थे शवों को ममी बनाकर

  • यहां के लोग किसी के मरने पर शव को ना ही दफनाया करते थे और ना ही उसे जलाया करते थे। अपितु उसकी ममी बनाकर उसे रख दिया जाता था और ये काम भी वे लोग करते थे जो इस समाज में सबसे अमीर होते थे। एैसा इसलिए क्योंकि शव को ममी बनाने में अधिक खर्च आया करता था।
  • इसके पीछे जो तथ्य था वो ये था कि एैसा माना जाता था कि जो इंसान मरा हुआ है वो फिर से जन्म लेगा। मिश्र के लोग शव के अलग—अलग टुकड़ों को जारों में रखते थे। और दिमाग को निकाल कर अलग किया जाएगा। केवल दिल ही को शव में रहने दिया जाता था एैसा इसलिए क्योंकि यहां के लोगों का मानना था कि आत्मा दिल में वास करती है।
  • जिस जगह पर ममी को बनाकर रखा जाता था उस जगह पर खाने पीने की चीजों को भी रखा जाता था और हर बार परिवार के लोग वहां पर कुछ ना कुछ खाने का सामान रख दिया करते थे।

egypt-ka-ithas-in-hindi

पिरामिड के पीछे का रहस्य

पिरामिड क्यों बनाए जाते थे मिस्र में आपको बता दें। सबसे पहला ​पिरामिड मिश्र में 2600 ईसा पूर्व में बनाया गया था। और यहीं के लोग इस पिरामिड को बनाया करते थे। और ये लोग वहां के राजा के मजदूरों की तरह काम किया करते थे। जिन्हें वेतन आदि भी दिया जाता था।

prachin misar ki rahasyamayi itihas

आधुनिक युग की चिकित्सक

अगला तथ्य जानकर आपको हैरानी होगी की मिश्र के चिकित्सक वर्तमान के चिकित्सकों की तरह ही अलग—अलग चीजों के विशेषज्ञ होते थे। और हर रोग के चिकित्सक अलग होते थे जो अपने ज्ञान में माहिर होते थे।

राजाओं की थी बीमारी

मिस्र के राजा लोग शरीर से काफी मोटे होते थे साथ ही वे अस्वस्थ भी रहते थे। जिसकी वजह थी उनका अधिक खानपान और मीठी चीजों
का अधिक सेवन करना आदि। यही वजह थी की मिश्र के अधिकतर शासकों को मधुमेह की बीमारी होती थी।

मिस्र में पुरूषों की तुलना में ही महिलाओं को बराबर का अधिकार दिया गया था। और वे भी वहां की शासक बन सकती थी। यही वजह थी मिश्र में कुछ महिलाएं शासक भी रहीं।

 



डिसक्लेमर : AyurvedicSehat.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी AyurvedicSehat.com की नहीं है। AyurvedicSehat.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।