भूलकर ना दें गिफ्ट में ये चीजें

हमारे समाज में एक दूसरे का उपहार देने का रिवाज है। जो सारी दुनिया में भी होता है। किसी को गिफ्ट देना सम्मान
माना जाता है। हर उम्र के लोगों को उपहार मिलना अच्छा लगता है। वास्तु शास्त्र  में हमें कई एैसी चीजों के बारे मंे बताया गया है जिन्हें हमें भूलकर भी उपहार यानि की गिफ्ट में नहीं देनी चाहिए। एैसा करने से आपके कामों व भाग्य में उल्टा असर पड़ सकता है। यही नहीं आपको धन की समस्या तक भी हो सकती है। आइये जानते हैं किसी को गिफ्ट में भूलकर कौन सी चीजें नहीं देनी चाहिए।
पैनी व नुकीली वस्तुएं
आप उपहार में किसी को एैसी चीजें ना दें जो नुकीली हों। इससे आपका भाग्य आपका साथ देना छोड़ देता है।
कौन सी होती हैं पैनी वस्तुएं
चाकू, कील, तलवार,  लोह की पैनी चीज आदि। किसी को तोहफे में ना दें।
जो चीजें पानी से बनी हुई हों
वास्तु शास्त्र के अनुसार आपको पानी से बनी हुई किसी चीज को उपहार में नहीं देनी चाहिए। एैसा करने से आपके जीवन में पौसों की तंगी आती है। और बनता हुआ काम बिगड़ने लगता है।
भूलकर रूमाल को भी ना दें
रूमाल या फिर सूती कपड़े से संबंधित किसी भी तरह की वस्तु भी आपको उपहार में नहीं देनी चाहिए। इससे आपकी सेहत व आर्थिक स्थिति खराब हो सकती है। यही नहीं इन चीजों को दान करने से नकारात्मक उर्जा भी आती है।
अपने काम से संबंधित चीजें
वास्तु शास्त्र के अनुसार आप अपने कारोबार या प्रोफेशन से संबंधित चीजें किसी को दान करते हो तो इससे आपको नुकसान हो सकता है। यही नहीं जिस क्षेत्र में आप काम करते हैं उस क्षेत्र में हानि हो सकती है। और परिवार में भी बीमारियां आ सकती हैं।
यदि वास्तु शास्त्र के निय​मों को आप
मानते हैं तो आपको किसी भी तरह की परेशानी नहीं आ सकती हैं। आप तोहफे में उन्हीं चीजों को दें जो इन सब बताई गई चीजों से अलग हो। इससे आपकी आर्थिक तंगी व नकारात्मक उर्जा दूर होगी।



डिसक्लेमर : AyurvedicSehat.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी AyurvedicSehat.com की नहीं है। AyurvedicSehat.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।

Leave a Reply