त्वचा पर नील के निशान दूर करने के घरेलू उपचार !

आप सभी जानते हैं की जब शरीर के किसी हिस्से पर चोट लगती है तो उस हिस्से में मौजूद खून फैलने लगता है। और एैसे में ये खून जब कोशिकाओं में फैलता है तो इससे चोट वाले हिस्से पर नील पड़ जाता है। और इस नील को हटने में काफी समय लगता है। कई बार नील पड़ने के बाद वहां सूजन आदि भी होने लगती है। एैसे में आप घरेलू नुस्खों के जरिए इसका उपचार कर सकते हो।लेकिन सबसे पहले आपको इस बात का पता जरूर होना चाहिए की यह नील किस वजह से पड़ा है। क्योंकि नील पड़ने के और भी कई कारण होते हैं। तो चलिए जान लेते हैं।

क्यों पड़ता है त्वचा में नील। नील के कारण –

  • विटामिन की कमी का होना
  • ब्लिडिंग डिसआॅर्डर
  • अंदरूनी चोट का लगना
  • डायबिटीज रोग
  • हीमोफीलिया
  • शरीर में पोषक तत्वों की कमी
  • स्पलीमेंट व दवाइयां आदि।

नील पड़ने पर करें ये घरेलू उपाय – how to remove body bruise marks in Hindi

दोस्तों आपको बता दें की नील पड़ने पर उस जगह पर काफी दर्द होता रहता है। वैसे तो ये नील अपने आप ठीक हो जाता है लेकिन आप घरेलू टिप्स को आजमाकर इस दर्द और नील से राहत पा सकते हो।

aloo ke chilke se door door hogi bimariya

कच्चा आलू नील पड़ने पर

कच्चा आलू बहुत लाभकारी होता है नील पड़ने का उपचार करने में। जी हां, कच्चा आलू को आप पीसें और फिर इसे नील वाली जगह पर लगाएं। इसे आप तब तक लगाएं जब तक नील ठीक ना हो जाए।

नींबू के छिलके दूर करेगें गठिया की बीमारी

गर्म संपीड़न

सबसे अच्छा तरीका है नील से निजात पाने का की आप गर्म संपीड़न यानि हॉट कम्प्रेशन का प्रयोग करें। इससे खून का संचार प्रभावी रूप से होता है। इससे सूजन भी कम होती है। आप इस तरह का हीटिंग पैड को बाजार से ले सकते हैं। इसे लगाने से आपको जरूर फायदा होगा।

pineapple-ananas

नील का इलाज अनानास से

फल हमारी सेहत के लिए बहुत लाभदायक होते हैं । एैसा ही फल है अनानास। जो ना केवल रोगों को दूर करता है अपितु यह नील का इलाज भी करता है। आप अनानास का रस का सेवन करें। इससे नील तो ठीक होगा ही साथ ही उससे पड़ने वाली सूजन और दर्द भी खत्म होगा।

vitamin a ki kami ke sanket aur bachav
लाभदायक है विटामिन सी का जैल

आप बाजार में मिलने वाले विटामिन जैल का इस्तेमाल भी कर सकते हो। क्योंकि इस में एंटी—इंफ्लेमेट्री तत्व होते हैं जो नील के पड़े निशानों को दूर करने का काम करता है। और नील को जल्दी से ठीक करता है।

ice-cubes-for-nakseer-treatment

करें बर्फ का इस्तेमाल इस तरह से

हमारे घर में मौजूद बर्फ भी नील पड़ने की समस्या से निजात दिलवा सकता है। आप बर्फ के क्यूब्स को एक तौलिए में रखकर लपेट लें। इसके बाद आप पंद्रह मिनट तक इससे नील वाली जगह पर सिंकाई करते रहें। इससे नील जल्दी से दूर होगा।

aloe vera ke istemal ke nuksan

यूज करें एलोवरा का

दोस्तों आपको बता दें की एलोवेरा में एंटी—इंफ्लेमेट्री गुण के अलावा यह एंटीआॅक्सीडेंट भी है जो हमारी त्वचा पर पड़ने वाले नील की समस्या को दूर करने का काम करता है। साथ ही इसमें विशेष प्रकार का गुण जिसे सूदिंग कहा जाता है वो सूजन और नील को घटाने का काम करते हैं।

अधिक पढे गए लेख –
अजवाइन खाने के फायदे और गुण— अच्छी सेहत के लिए

काले चने के स्वास्थ्यवर्धक फायदे और प्रयोग



डिसक्लेमर : AyurvedicSehat.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी AyurvedicSehat.com की नहीं है। AyurvedicSehat.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।

Leave a Reply