Symptoms of diabetes bump around eyelids in hindi

आंखों के आसपास अगर चकते हो रहें हैं तो सावधान। इस बीमारी के लक्षण हैं!

आंखों की किसी भी तरह की समस्या होने पर उसे कभी हल्के में नहीं लेना चाहिए। और कई सारे कारणों से आपके आंखों में परेशानी आ सकती है। जिनमें से एक प्रमुख कारण है डायबिटीज का होना। भारत में सबसे ज्यादा लोग इसी समस्या से ग्रसित होते जा रहे हैं। इस समस्या में शरीर के ​जरिए हार्मोन इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाते हैं। जिससे ये परेशानी हो जाती है। दोस्तों जब शरीर में उचित मात्रा में इंसुलिन नहीं बन पाता है तब इससे शरीर में खून में शर्करा का प्रयोग करके उर्जा बनने के लिए एक तरह का संघर्ष करता है। दोस्तों इस लेख में आप को हम बताने वाले हैं आंखों की समस्या से कैसे आप डायबिटीज का पता लगा सकते हैं। ताकी आप समय रहते इस समस्या से बच सकें।

 

हाल ही में अमेरिका की एक एकेडमी जिसे एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी कहा जाता है उसके अनुसार यदि आपको डायबिटीज की समस्या हो तो इससे आपकी आंखों के पास यानि पलकों के पास एक तरह के पीले रंग के निशान पड़ने लगते हैं। और इसे जैंथेलाज्मा भी कहा जाता है।

 

इस संस्थान के अनुसार इंसान के शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित कर सकता है मधुमेह। और इसी के साथ—साथ आपकी त्वचा को भी। जब इंसान के शरीर में मधुमेह के कारण ग्लूकोज का स्तर अधिक बढ़ जाता है तब इंसान की त्वचा यानि की उसकी स्किन प्रभावित होने लगती है। यह भी एक संकेत होता है मधुमेह का।

 

शरीर में मौजूद खून में वसा की मात्रा का अधिक होना भी ये कहता है की आपको मधुमेह हो रहा है और आप उसे किसी तरह से कंट्रोल नहीं कर पा रहे हैं। इसे मेडिकल भाषा में xanthelasma कहा जाता है। जिससे इंसान की आंखों के चारों ओर पपड़ीदार पीले रंग के पैच दिखने लगते हैं । एैसा होने पर आपको बिना देर किए डॉक्टर के पास जाना चाहिए। अगर आप डा​यबिटीज को कंट्रोल कर लेते हैं तो आंखों की ये समस्या आपको नहीं होगी। दोस्तों यदि त्वचा पर लाल रंग के छोटे धब्बे या बम्प्स दिखाई दें तो समझ लें की आपको मधुमेह का खतरा बहुत अधिक हो रहा है।

कैसे कर सकते हैं डायबिटीज का कंट्रोल में

इसके लिए सबसे जरूरी है आपी डाइट पर निंयत्रण रखना। दूसरा पैदल चलना व नियमित व्यायाम करना। इसके अलावा खूब पानी पीएं । और किसी तरह के तनाव को अपने उपर हावी ना होने दें।



डिसक्लेमर : AyurvedicSehat.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी AyurvedicSehat.com की नहीं है। AyurvedicSehat.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।

Leave a Reply